भारत के संत एकनाथ - दयालुता

Smita Kumari 2 मिनट 3/5/2022
भारत के संत एकनाथ - दयालुता

महाराष्ट्र राज्य में दो साल से बारिश नहीं हुई थी। झीलें, कुएँ, तालाब और यहाँ तक कि छोटी नदियाँ भी सूख गई थी और पानी के बिना पौधे मुरझा गए थे। कई जानवर पानी की तलाश में दूर-दूर तक चले गए।

एकनाथ ने वाराणसी की तीर्थ यात्रा पर जाने और बारिश के लिए प्रार्थना करने का फैसला किया।

ये वो जमाना था जब ट्रेन या बसें नहीं हुआ करती थीं। एकनाथ पैदल चलकर वाराणसी पहुंचे। उन्होंने गंगा नदी में डुबकी लगाई और मंदिरों में पूजा-अर्चना की।

एक दयालु संत ने एकनाथ से कहा कि वह पवित्र गंगा का जल अपने गांव ले जाएं और अपने गांव के मंदिर में शिवलिंग पर चढ़ाए , फिर बारिश होगी। एकनाथ ने संत को धन्यवाद दिया। उन्होंने गंगा के पानी से एक बर्तन भर दिया और अपने गांव के लिए रवाना हो गए। घर वापस आने में काफी समय था।

जैसे ही एकनाथ अपने गांव के पास पहुंचे, ग्रामीणों ने सुना कि एकनाथ गांव के मंदिर के शिवलिंग पर स्नान करने के लिए गंगा जल ला रहे हैं तो उनके साथ भारी भीड़ भी उमड़ पड़ी।

एकनाथ गांव के शिव मंदिर में प्रवेश करने ही वाले थे कि उन्हें एक गधा दिखाई दिया। जानवर बीमार लग रहा था। वह हिल गया और मंदिर के ठीक सामने गिर गया। एकनाथ ने देखा कि बेचारा जानवर सांस के लिए हांफ रहा था और उसे पीने के लिए पानी की सख्त जरूरत थी।

एकनाथ ने मंदिर में शिवलिंग की ओर देखा। उसने गधे की तरफ देखा। एकनाथ ने शिव के नाम का जाप करते हुए अपने कंधे पर रखे बर्तन को उतारा और गधे के खुले मुंह में पानी डाला। जैसे ही पानी अंदर गया, गधे को खड़े होने के लिए कुछ ताकत मिली। उसने उस दयालु आदमी की ओर देखा जिसने उसे पानी दिया था।

जैसे ही एकनाथ ने जानवर को पानी दिया, उसी समय बातावरण का तापमान गिराने लगा और ठंडी हवाएं चलने लगी और फिर बारिश होने लगी!

नोट: संत एकनाथ (16वीं शताब्दी) पंदरपुर के पांडुरंगा विट्ठल के भक्त थे। उन्होंने मराठी में भागवत पुराण की रचना की। उन्हें 'एकनाथ भगवत' के नाम से जाना जाता है।